You are currently viewing Wifi HaLow क्या है ? पूरी जानकारी

Wifi HaLow क्या है ? पूरी जानकारी

स्मार्ट WiFi halow 1KM Range स्मार्ट शब्द लगभग हर जगह है जिस प्रकार हमारा फोन स्मार्ट है और हमारी घड़ी भी स्मार्ट है और घरों या शहरों को स्मार्ट बनाने के लिए जिस प्रकार हम आधुनिक चीजों का इस्तेमाल कर रहे हैं ठीक उसी प्रकार अब वाईफाई में भी एक स्मार्ट चीज निकल कर सामने आई है वह वाईफ़ाई हेलो है।

वैसे तो सभी पुरानी स्मार्ट चीजों में old wifi टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है बशर्ते एक रिपोर्ट के अनुसार वाईफाई के लिए एक नई चीज सामने उभर कर आ रही है वह वाईफाई हेलो (Wi-Fi HaLow) है।

Wifi HaLow kya hai hindi me

इस digital युग के दौर में जिस प्रकार अब अधिक से अधिक स्मार्ट चीजें पूरे विश्व स्तर पर लांच हो रही है ठीक उसी प्रकार अब पुरानी वाईफाई टेक्नोलॉजी की जगह अब नई WiFi HaLow का समय आने वाला है जो Wi-fi Alliance द्वारा इस नई वाईफाई टेक्नोलॉजी (Wifi Halow) को प्रमाणित (certified) किया गया है।
WiFi Halow में ऐसा कहा जा रहा है कि यह वाईफाई कम पावर खर्च कर हमें अधिक रेंज कनेक्शन या long range connection 1 किलोमीटर तक देखने को मिलेगा।

WiFi HaLow तकनीक क्या है?

इस नई वाईफाई wifi Halow तकनीक या टेक्नोलॉजी को इंटरनेट ऑफ थिंग्स पर ध्यान केंद्रित करते हुए तैयार किया गया है। wifi Halow का लक्ष्य है औद्योगिक या व्यापार, स्मार्ट बिल्डिंग, कृषि और स्मार्ट सिटी वातावरण में उपयोग के मामलों को सक्षम करने पर इस तकनीक को तैयार किया गया है।

हेलो वाईफाई पुरानी वाईफाई टेक्नोलॉजी से कैसे अलग है?

वैसे तो हम सभी जानते हैं कि मौजूदा वाईफाई या वर्तमान वाईफाई बैंडविथ टेक्नोलॉजी में 2.4 GHz से 5GHz frequency पर काम करती है तो वही वाईफाई हेलो(wifi Halow) की बात की जाए तो इसमें हमें low frequency पर एक longer wavelength की सुविधा प्रदान करती है, जो इसे लंबी दूरी पर डाटा संचालित करने की अनुमति देती है।

WiFi HaLow टेक्नोलॉजी कैसे काम करती है?

यह आधुनिक नई वाईफाई टेक्नोलॉजी Sub GHz Sectrum पर काम करती है और आसान भाषा में वाईफाई हलो टेक्नोलॉजी 1GHz से low spectrum पर काम करती है जिसका मतलब यह होता है कि कम पावर पर या कम बिजली खपत करके हम लो फ्रिकवेंसी पर लंबी दूरी तक डाटा सिग्नल भेज सकते हैं।

वाईफाई HaLow कितनी ज्यादे स्पीड देगी?

इस नई वाईफाई टेक्नोलॉजी में डाटा स्पीड कम होने की उम्मीद है क्योंकि ज्यादा wavelength cover करने पर डाटा स्पीड कम हो जाती है लेकिन इससे हमारे जितने भी स्मार्टफोन, स्मार्ट टीवी या इंटरनेट से चलने वाली इत्यादि चीजें हैं इन पर प्रभाव नहीं पड़ेगा।

क्योंकि जो वाईफाई हम वर्तमान में इस्तेमाल कर रहे हैं उसमें 2.4GHz से 5GHz पर इंटरनेट तेजी से चलता है लेकिन वाईफाई हेलो में कम स्पीड पर ड्रॉबैक नहीं है क्योंकि इसे जिन डिवाइस या (internet of things स्मार्टफोन स्मार्ट टीवी स्मार्ट बाइक इत्यादि चीजें है जिसमें इंटरनेट का इस्तेमाल होता है) इनके लिए बनाया जा रहा है, ऐसी डिवाइस को तेज वाईफाई की आवश्यकता नहीं पड़ती है जिसका मतलब यह होता है कि स्लो स्पीड से अच्छा काम करता है।

भारत में कब तक Wi-Fi हेलो लॉन्च हो जाएगा?

वैसे तो अब तक वाईफाई हेलो टेक्नोलॉजी का कोई लॉन्च टाइमलाइन नहीं बताया गया है, हालांकि वाईफाई एलायंस ने यह स्पष्ट रूप से कहा था कि 2021 के चौथी तिमाही तक वाईफाई हेलो को लॉन्च कर देंगे जिसका मतलब यह निकल कर आता है कि यह अब अगले साल तक इस तकनीकी का उपयोग हम कर सकेंगे।

Conclusion – Wifi HaLow kya hota hai in hindi?

उम्मीद है आपको इस लेख के माध्यम से जानकारी मिली होगी कि WiFi HaLow kya hota hai? तो आप यह जानकारी अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें और उसी के साथ आप हमारे ब्लॉग को फ्री में सब्सक्राइब कर सकते हैं और यूट्यूब चैनल को भी धन्यवाद

Leave a Reply