You are currently viewing Broadband क्या है ? जानिए यह कैसे काम करता है पूरी जानकारी

Broadband क्या है ? जानिए यह कैसे काम करता है पूरी जानकारी

Broadband kya hai hindi – Broadband जिसका नाम सुनते ही हम सभी के मन में इंटरनेट का ख्याल आता है कि इसमें में इंटरनेट की सुविधा मिलती है खासकर सबसे जरूरी बात इसमें हमें है high speed internet यानी तेज इंटरनेट की स्पीड इसमें हमें देखने को मिलती है।

Broadband service में हमें high speed की data transmission दिया जाता है जिसकी मदद से हम तेज इंटरनेट स्पीड वाला इंटरनेट इस्तेमाल कर सकते हैं और हमारा सारा इंटरनेट का काम जल्दी-जल्दी ब्रॉडबैंड की सहायता से पूरा हो जाता है।

यह एक जगह लगा दिया जाता है जिसके कारण हम उसे बार-बार नहीं बदल सकते इसका इस्तेमाल हम अपने घर में, व्यापार के तौर पर, स्कूल में इत्यादि जगहों पर हम कर सकते हैं broadband सस्ते दामों में हमें बेहतर और अच्छी इंटरनेट की सुविधा देता है खासकर जिन्हें unlimited इंटरनेट की जरूरत होती है।

तो आज इस लेख में हम सभी यह जानेंगे कि Broadband kya hai hindi, कैसे काम करता है और यह कैसे हमारे इंटरनेट की दुनिया में हमें सस्ते इंटरनेट की सुविधाएं हमें देता है यह सारी चीजें इस लेख में हम जानेंगे।

ब्रॉडबैंड क्या है ( What is Broadband means in Hindi )

Broadband का Full form Broad Bandwidth होता है जिसमें हमें high speed internet वाला इंटरनेट कनेक्शन मिलता है जिसकी सहायता से हम wide band की frequencies का इस्तेमाल कर सकते हैं information या जानकारी को transmit करने के लिए वह भी जल्द से जल्द।

ब्रॉडबैंड इंटरनेट multiple data channels का इस्तेमाल करके information या जानकारी को भेजने ( send ) के लिए subscribers network का इस्तेमाल करता है इससे specific type इंटरनेट कनेक्शन को “always on” के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह इंटरनेट ब्रॉडबैंड कनेक्शन टेक्नोलॉजी को हमेशा एक दूसरे के साथ Constantly जोड़े रखता है यानी Constantly Connected रहता है और यह telephone lines को block भी नहीं करता है।

Home broadband internet users के लिए सबसे अच्छा फायदा यह है कि इसमें वह आसानी से इंटरनेट कनेक्शन के साथ जुड़ सकते हैं क्योंकि इसमें delay time बहुत ही कम  है।

सबसे जरूरी बात इसमें wide band of frequencies मौजूद होती है जिसकी मदद से हम अलग-अलग जानकारी या information अलग-अलग frequencies के channels पर एक साथ भेज सकते हैं और हमें जल्द से जल्द हमारी जानकारी हमें दे दी जाती है।

उदाहरण के तौर पर हम समझ सकते हैं highway पर जितनी ज्यादे road रहेंगी उतनी ही ज्यादे car, truck, motercycle एक समय पर travel या चलेंगी।

Broadband Internet Connection की सुविधा हम किस से ले सकते हैं

Broadband Internet connection की सुविधा लेना काफी आसान है हम चाहे तो किसी भी टेलीकॉम कंपनी से ले सकते हैं जैसे Jio broadband, Airtel broadband, BSNL यानी Bharat broadband इत्यादि कंपनियां इसमें शामिल है।
साथ ही हम इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर से ब्रॉडबैंड कनेक्शन ले सकते हैं। जैसे tata play broadband

Broadband connection क्या है ?

ब्रॉडबैंड का मतलब व्यापक ब्रैंडविथ डाटा ट्रांसमिशन से होता है। अगर हम डाटा के तौर पर इंटरनेट को देखते हैं तो हमें दो डिवाइस के बीच मे डाटा ट्रांसफर करना होता है और ऐसी स्थिति में ब्रॉडबैंड को रास्ता है जिससे हमारा डाटा ट्रांसफर होता है या चलता है।
ब्रॉडबैंड कनेक्शन लेने के कई सारे तरीके हैं जैसे कि DSL, Cable, fiber optic आदि। इन सभी तकनीक की मदद से हम हाई स्पीड इंटरनेट कनेक्शन का लाभ उठा सकते हैं।

Broadband connection कैसे काम करता है ?

Broadband की इंटरनेट डाटा ट्रांसफर dail up signal के माध्यम से भी ट्रांसफर हो सकता है। ब्रॉडबैंड शब्द का मतलब ही होता है कि इसमें डाटा ट्रांसफर एक से ज्यादा बैंडविथ का इस्तेमाल करके किया जाता है।

अगर हम सामान्य रूप से dailup कों समझे तो यह सिर्फ एक ऐसी गली है जहां एक समय पर सिर्फ एक वाहन जा सकता है. जबकि ब्रॉडबैंड एक high way की तरह जिसमें एक समय पर कई सारी गाड़ियां जा सकती हैं यानी कई सारी जानकारियां हम एक ही समय पर प्राप्त कर सकते हैं।

Broadband के प्रकार ( types of broadband )

वैसे आज के इस आधुनिक समय में ब्रॉडबैंड के कई सारे प्रकार मौजूद है लेकिन हम कुछ चुनिंदा या important types of Broadband kya hai hindi के बारे में जानेंगे।

DSL

डीसल का मतलब या फुल फॉर्म होता है Digital Subscriber line. यह एक wire रहित यानी wireless transmission technology है जो हमारे data को transmit करती है traditional copper telephone lines के ऊपर जो पहले से ही हमारे घरों और ऑफिसों में installed रहती हैं।

Broadband based DSL में हमें transmission speeds में कई सारी ranges देखने को मिलती हैं जैसे कि hundred Kbps से Mbps ( millions of bits per second ) तक

डीसल ब्रॉडबैंड कनेक्शन स्पीड का मूल्यांकन या experience हम इस तरीके से कर सकते हैं कि अगर switching station हमसे नजदीक होता है तो हमें ज्यादा internet speed देखने को मिलती हैं वहीं अगर switching station हम से दूरी पर है तो हमें कम internet speed देखने को मिलती है।

DSL transmission technology के types हैं

ADSL ( Asymmetrical Digital Subscriber Line )

इसे हम primarily residential customers भी कह सकते हैं जैसे कि इसको इस्तेमाल करने वाले users केवल browsing के लिए इस्तेमाल करते हैं यानी जो बहुत सारे डेटा को receive करते हैं लेकिन बहुत ही कम डाटा को भेजते ( send ) करते हैं। सबसे जरूरी बात इसमें हमें ज्यादा download stream speed देखने को मिलती है Up stream speed की तुलना में।

एडीसल allows करता है फास्टर या तेज downstream data transmission उसी same line पर जिससे हम सभी voice service का इस्तेमाल करते हैं बिना किसी regular telephone call को डिस्टर्ब किए हुए उसी लाइन पर।

SDSL ( Symmetrical Digital Subscriber Line )

इसको मुख्य रूप से व्यापारियों के द्वारा इस्तेमाल किया जाता है या अगर हम कोई बिजनेस करते हैं तो हम video conferencing करते हैं जिसमें में बहुत ज्यादे bandwith की जरूरत पड़ती है खासकर upstream और downstream के लिए।

यह DSL की faster form है जो typically available ( आम तौर पर उपलब्ध ) होती है खासकर बिजनेस के लिए उनमें से कुछ डीसल शामिल है जो निम्नलिखित हैं

  • HDSL ( High data rate Digital Subscriber Line ).
  • VDSL ( Very High data rate Digital Subscriber Line ).

Cable

यह ब्रॉडबैंड cable connection के दौरान दिया जाता है खासकर local cable टीवी ऑपरेटर द्वारा इंटरनेट की स्पीड cable internet connection पर निर्भर रहता है या एक ही समय पर कितने यूजर इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे हैं।

किसी एक particular area की बात की जाए तो अगर बहुत सारे यूजर्स एक साथ Broadband kya hai hindi या broadband cable service इस्तेमाल कर रहे हैं तो उनकी स्पीड इस पर निर्भर रहती है कि उस समय ज्यादा लोग इंटरनेट का इस्तेमाल ना कर रहे हो क्योंकि ज्यादातर शाम के समय सारे लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं और इंटरनेट की स्पीड उस समय धीरे भी हो जाती है।

Cable modem service में हमें cable operators के द्वारा ब्रॉडबैंड की सुविधा सामान्य रूप से coaxial cables में दिया जाता है।

सबसे जरूरी बात ज्यादातर cable modem external device होते हैं जिसके अंदर हमें दो कनेक्शन देखने को मिलते हैं :- एक cable wall outlet होता है. वही दूसरा cable एक कंप्यूटर में है यह करीब 1.5 Mbps या उससे ज्यादा की ट्रांसमिशन इंटरनेट स्पीड हमें देता है।

Subscribers या यूजेस Cable modem service को बिना किसी सहायता के अपने आप ही access या चालू कर सकते हैं वह भी बिना किसी इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर को कॉल किए। यूजर्स को अपने कंप्यूटर को चालू करना है और साथ ही इसमें अब टीवी केबल की सुविधा का भी लुप्त उठा सकते हैं internet service इस्तेमाल करने के दौरान कंप्यूटर में. Transmission speed vary या इंटरनेट स्पीड निर्भर होता है type of cable यानी आप कौन सा केबल इस्तेमाल कर रहे हैं उस पर निर्भर रहता है कि आपका इंटरनेट स्पीड कितना तेज चलेगा और कितना धीरे।

Optic Fiber

Optic fiber broadband service एक नई ब्रॉडबैंड सर्विस है जिसमें हमें बहुत ही तेज internet connection देखने को मिलता है यह है fiber optic technology पर काम करता है फाइबर ऑप्टिक टेक्नोलॉजी में यह डाटा को electric signal को light में data carry करता है।

फिर उस light के डाटा को transparent glass fiber के माध्यम से send किया जाता है जो कि एक human hair या इंसान के बाल के diameter के बराबर होता है. Fiber में हमें data transmission speed DSL और Cable modem speed से ज्यादा high quality internet speed देखने को मिलती है, जिसमें स्पीड लगभग tens और evens hundreds of Mbps यानी 1Gbps तक की स्पीड इसमें देखने को मिलती है।

Broadband kya hai hindi की सुविधा देने वाले telecommunications provider द्वारा कभी-कभी Fiber broadband plans यानी ऑफर लाए जाते हैं जिसमें कुछ एरिया में इसको एक्टिव किया जाता है जैसे कि internet access, video conferencing, video services और कई सारी सुविधाएं हमें फाइबर ब्रॉडबैंड में देखने को मिलती हैं।

Optic fiber की internet speed कई चीजों पर निर्भर करती है जैसे कि आप किस service provider का फाइबर इस्तेमाल करते हैं चाहे वह एयरटेल का हो या जिओ का साथ में वह कितने अमाउंट का Bandwidth आपको देते हैं जो हमारे इंटरनेट की स्पीड को बढ़ाता है ।

ब्रॉडबैंड की सर्विस देने वाले समान फाइबर में हमें ( VoIP ) voice, Video Services और साथ में video on demand की सुविधाएं दी जाती हैं।

Wirless

यह हमें इंटरनेट के साथ Radio link के माध्यम से wireless broadband connection की सुविधा हमारे घर और हमारे बिजनेस को इंटरनेट से जोड़ता है। इसमें हमें इंटरनेट लेने के लिए internet service provider के facility के साथ जोड़ता है जो wireless Broadband kya hai hindi या तो मोबाइल हो सकता है।
Wireless technology का range काफी बड़ा होता है इसमें ब्रॉडबैंड की सुविधा कुछ Area तक ही दिया जाता है इसलिए इसका cost या लगवाने का खर्च हमें महंगा पड़ता है।

इसकी speed स्पीड लगभग डीसल और केबल मॉडेम की तरह मिलती है लेकिन इसमें इंटरनेट की सुविधा लेने के लिए एक external antenna की भी जरूरत पड़ती है।

Satellite internet

Satellite internet के नाम से लगता है कि यह एक सेटेलाइट है जो हमारी धरती के चारों ओर घूमती है जिसके माध्यम से हमको इंटरनेट की सुविधा दी जाती है यह देखने में हमारे TV एंटीना की तरह ही एक डिश दिया जाता है जिसके माध्यम से हमें इंटरनेट सर्विस की सुविधा मिलती है।

सेटेलाइट इन्टरनेट broadband एक WIRELESS ब्रॉडबैंड कनेक्शन है और इस ब्रॉडबैंड कनेक्शन की सुविधा में upstream और downstream इसकी इंटरनेट स्पीड और इसकी सुविधा इसके सर्विस प्रोवाइडर, weather या मौसम, service package purchased इत्यादि चीजें इंटरनेट की स्पीड इन सभी बातों पर निर्भर करता है।

अगर इसके डाउनलोड स्पीड की बात की जाए तो इसमें करीब 600 Kbps की स्पीड देखने को मिलती है और अपलोड की स्पीड 100 Kbps तक मिलती है यह स्पीड हमें केबल मॉडेम और डीसल  की तुलना में बहुत कम लग रही होगी लेकिन यह 10 times यानी 10 गुना faster होती है कभी कबार मौसम खराब हो जाने के कारण इसकी speed  इतनी होती है नहीं तो सैटलाइट इंटरनेट सभी से हमें ज्यादा high speed internet connection की सुविधा देता है।

अगर हम satellite broadband की सुविधा लेना चाहते है तो अभी फिलहाल इसमें कुछ चुनिंदा कंपनियां ही शामिल है जैसे की elon musk की Starlink और Amazon की kuiper भी शामिल है।

BPL ( Broadband over Powerline )

BPL delivery की तरह ही काम करती है Broadband की medium-voltage electric power distribution network के ऊपर और existing low पर निर्भर करती है इसकी स्पीड। डीसल और Cable modem service की तुलना में BPL सर्विस हमें हमारे घरों में दिया जाता है वह भी मौजूदा electrical कनेक्शन और outlets की सहायता से।

बिपल नई टेक्नोलॉजी है जो अभी फिलहाल कुछ ही एरिया में हमें मिल सकती है BPL बहुत ही ज्यादा significant potential  है यानी इसकी पावर लाइंस पहले से ही installed होती है जिससे कि प्रत्येक यूजर्स को नए broadband facility की जरूरत आसानी से मिल जाती है।

Telephone Landline और Broadband Internet को एक साथ काम करने वाला डिवाइस का नाम क्या है ?

लैंडलाइन और डॉट बैंड इंटरनेट को एक साथ काम करने में मदद करने वाला डिवाइस का नाम ADSL Filter है।
एडीसल low pass Filter या एडीसल line Filter यह एक ऐसा डिवाइस है जो voice signal को और internet signal को एक दूसरे से अलग रखता है और हम एक साथ telephone landline का भी इस्तेमाल कर सकते हैं और internet service का भी इस्तेमाल कर सकते हैं वह भी एक ही समय में।

ब्रॉडबैंड के फायदे ( Advantage )

ब्रॉडबैंड जिसका नाम हम लोग बचपन से ही सुनते चले आ रहे हैं चाहे यह old technology हो जाए लेकिन इसके अंदर हमें यह निम्नलिखित फायदे देखने को मिलते हैं.

  • Speed ज्यादा होती है

अगर हम इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे हैं और हमें ज्यादा इंटरनेट स्पीड नहीं मिलती है तो हमें परेशान होने की जरूरत नहीं है इस fixed broadband के अंदर हमें high speed internet की सुविधा मिलती है।

  • Cheap या सस्ते

अगर हम fixed broadband connection की बात करें और अपने मोबाइल इंटरनेट की बात करें तो हमें यह देखने को मिलता है कि हमें ब्रॉडबैंड बहुत ज्यादा सस्ता पड़ता है अगर हम इसके internet speed, data limit की बात की जाए तो हमें बहुत सस्ता पड़ता है।

  • Data Caps

Fixed broadband connection में हमें data caps की लिमिटेशन नहीं होती है वहीं अगर हम मोबाइल ब्रॉडबैंड में हमें डाटा कैप्स में लिमिटेशन देखने को मिलती है वहीं अगर हम fixed broadband के यूजर्स हैं तो हम डाउनलोड और अपलोड आसानी से अपने मन मुताबिक कर सकते हैं इन चीजों में कोई limit हमें ब्रॉडबैंड में नहीं देखने को मिलती है।

  • Consistency होता है

इसमें कनेक्शन एक ही लाइन के साथ जुड़ा होता है जिससे ज्यादा से ज्यादा  ब्रॉडबैंड पर विश्वास बना रहता है कि हमारा इंटरनेट कनेक्शन नहीं टूटेगा खासकर दूसरे mobile broadband internet की तुलना में।

ब्रॉडबैंड के नुकसान ( Disadvantage )

जिस प्रकार सिक्के के दो पहलू होते हैं ठीक उसी प्रकार ब्रॉडबैंड के भी कुछ disadvantage है जो निम्नलिखित हैं.

  • Line rental होना

अगर हम होम लैंडलाइन कनेक्शन लेना चाहते हैं और हम साथ में ब्रॉडबैंड का भी इस्तेमाल कर रहे हैं तो हमें लैंडलाइन कनेक्शन के लिए line rental pay देना होता है जो की हमारे लिए महंगा पड़ता है अगर हम कोई फोन इस्तमाल नहीं करते हैं तो.

  • Fixed होता है

अक्सर ब्रॉडबैंड एक ही जगह fix किया जाता है हमारे घर के चारों दीवारों के अंदर वहीं अगर हम ब्रॉडबैंड को दूसरी जगह transfer करना चाहते हैं तो हमें थोड़ी मुश्किल होती है।

  • Switching issues

जब हम किसी भी broadband service का इस्तेमाल करते हैं और हम चाहते हैं कि हम दूसरे कंपनी में shift हो जाए यानी दूसरे कंपनी का ब्रॉडबैंड लगवा लें तो हमें दूसरे कंपनी के ब्रॉडबैंड में shift या बदलते समय कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ता है जैसे कि लगवाने का खर्च, डिवाइस का खर्चा इत्यादि चीजें इसमें शामिल है।

  • Competition

आज के इस आधुनिक समय में जिस प्रकार innovation तेजी से हो रहे हैं ठीक उसी प्रकार mobile internet की दुनिया में भी तेजी से बदला हो रहे हैं पहले हम 3g सिम इस्तेमाल करते थे 4G सिम इस्तेमाल कर रहे हैं और आने वाले समय में 5G इस्तेमाल करेंगे और इसी इनोवेशन होने के कारण broadband का इस्तेमाल करना भी काफी कम हो जाएगा।

हमें ब्रॉडबैंड कनेक्शन क्यों लेना चाहिए

अक्सर जब हम ब्रॉडबैंड कनेक्शन लेने की सोचते हैं तो हमारे मन में यह सवाल आता है कि हम broadband connection क्यों ले रहे हैं यह हमारे लिए कैसे फायदेमंद होगा यह सारी चीजें हमारे मन में ब्रॉडबैंड कनेक्शन लेते समय आती है।

  1. तो इसका जवाब है की ब्रॉडबैंड internet हमें बहुत ज्यादा high speed internet के साथ हमें देता है जिसकी मदद से हम ज्यादा content यानी video, photo, documents इत्यादि एक साथ कहीं भी कम समय में transfer कर सकते हैं और इसके अलावा content transfer में भी बहुत कम समय लगता है जैसे कि मैसेज को आपने तुरंत भेजा और कुछ सेकंड के बाद जिसके पास भेजा वह उसे तुरंत recieve कर लेता है।
  2. जैसा हम सभी ने देखा कि बिजनेस या व्यापार करते समय खासकर आज के इस आधुनिक समय में बिजनेस online तरीके से ही किया जा रहा है और इसमें high quality internet speed की भी जरूरत पड़ती है जो ब्रॉडबैंड में दे रहा है जिसका इस्तेमाल करके हम बिजनेस अपना बड़े स्तर पर कर सकते हैं।
  3. वही आज के समय की बात की जाए तो लगभग सभी लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं और अगर वह तेज इंटरनेट का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो ब्रॉडबैंड का इस्तेमाल कर सकते हैं ब्रॉडबैंड कनेक्शन लेकर जिससे यूजेस का सारा काम आसानी से जल्द से जल्द हो जाएगा।

Note – अगर आप कोई भी इंटरनेट कनेक्शन लेने जा रहे हैं तो आप इंटरनेट कनेक्शन लेते समय यह काम कर सकते हैं कि हम जहां इंटरनेट कनेक्शन ले रहे हैं वहां पर कौन सा Service provider अच्छा कनेक्शन दे रहा है और अच्छी सर्विस इस दे रहा है जिससे हमें अच्छा internet connection लगवाने में फायदा होगा।

Broadband से जुड़े सवाल

क्या 4G है हमें ज्यादा speed देता है ब्रॉडबैंड की तुलना में ?

नहीं ऐसा इसलिए है क्योंकि ब्रॉडबैंड हमें तेज internet speed देता है 4G से।

भारत में broadband सेवा कब शुरू हुई थी ?

ब्रॉडबैंड की शुरुआत भारत में 15 अगस्त 1995 में हुई थी इसे VSNL ( Videsh Sanchar Nigam Limited ) द्वारा लाया गया था।

आज आपने सीखा – Broadband kya hai hindi

जब भी ब्रॉडबैंड का नाम हमारे मन में आता है तो हम यह सोचते हैं कि Broadband kya hai hindi और कैसे काम करता है इसमें क्या-क्या फायदे देखने को मिलते हैं इन सारी चीजों की जानकारी इस लेख में पूर्ण रूप से यानी पूरी तरीके से मौजूद है।

ब्रॉडबैंड से संबंधित आप सभी को पूरी जानकारी मिल गई होगी और आपको इससे संबंधित किसी और sites पर ना जाना पड़े इसलिए मैंने पूरा प्रयास किया है कि आपको इससे जुड़ी सारी जानकारी आप तक इस Article के माध्यम से पहुंचाई जा सके।

यदि आपके मन में इससे संबंधित कोई भी doubts या जानकारी हो तो हमारे कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं धन्यवाद।

Leave a Reply