You are currently viewing Prepaid और Postpaid सिम कार्ड क्या है ?

Prepaid और Postpaid सिम कार्ड क्या है ?

Prepaid और Postpaid वैसे सभी टेलीकॉम कंपनियों ने  सिम कार्ड को  मुख्यतः रूप में बांटा है प्रीपेड और पोस्टपेड जिसके माध्यम से वह लोगों को इंटरनेट, फोन कॉल करना, मैसेज भेजना इत्यादि सर्विस प्रोवाइड कराते हैं अलग-अलग डाटा प्लान के माध्यम से जिससे ग्राहक डाटा प्लान में रूचि ले सकें इस लेख मे हम Prepaid और Postpaid सिम कार्ड क्या है और दोनों मे क्या अंतर है  और इन दोनों की क्या अलग-अलग विशेषताएं हैं और खूबियां हैं ।

आज के समय लगभग सभी के पास mobile phone तो जरूर होगा चाहे हम apple का BlackBerry का या Android फोन इस्तेमाल करते हो अगर मोबाइल फोन के अंदर बिना सिम कार्ड के ऐसा हाल हो जाता है कि जैसे शरीर तो है मगर दिल नहीं है चाहे हम किसी भी कंपनी का सिम कार्ड इस्तेमाल करते हो चाहे Airtel, Jio या Vodafone idea Vi हो।

 

Prepaid sim क्या होता है ? – Prepaid meaning in hindi

जब हम अपना मोबाइल फोन खरीदते हैं तो उसके साथ हम सिम कार्ड भी खरीदते हैं और सिम कार्ड allot या मिल जाने के बाद जब तक उसके अंदर हम कोई भी प्लान एक्टिवेट नहीं करवाते हैं चाहे हमने किसी भी कंपनी का सिम कार्ड लिया हो तब तक हम सिम कार्ड द्वारा दी गई सुविधाओं का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे और हम अपने फोन में इंटरनेट की सुविधा, फोन कॉल की सुविधा, मैसेज भेजने की सुविधा इत्यादि सारी सुविधाओं का लाभ नहीं उठा पाएंगे।

Prepaid सबसे ज्यादा इस्तेमाल या उपयोग किया जाने वाला सिम कार्ड है जो लगभग सभी भारत वासियों के द्वारा इस्तेमाल किया जाता है।

OR

Pre का अर्थ होता है पहले और Paid का अर्थ भुगतान या Recharge। जिसका मतलब या अर्थ होता हैं की इसमें पहले हमें अपने सिम पर Recharge करवाना पड़ता है। जिसके बाद ही Calling, SMS और Internet का इस्तेमाल कर सकते है, इसके लिए हमें पहले रिचार्ज कराना होगा उसके बाद हमें यह सारी सुविधाएं मिल पाएगी चाहे youtube देखना है, Instagram, Facebook चलाना हो इन सभी चीजों का इस्तेमाल तभी हम कर पाएंगे।

 

Postpaid sim होता है ? – postpaid meaning in hindi

पोस्टपेड सिम कार्ड को हम ऐसे समझ सकते हैं की  जिस प्रकार घड़ी detergent powder का विज्ञापन दिखाती है कि पहले इस्तेमाल करें फिर विश्वास करें उसी प्रकार पोस्टपेड सिम कार्ड के अंदर हम पहले सिम कार्ड को इस्तेमाल करते हैं, उसके बाद हमने जितना भी सिम कार्ड का mobile data या incoming और outgoing call इस्तेमाल किया है उसी के हिसाब से हमारे पास हमारा bill आ जाएगा।

इसके अंदर हम महीने का bill pay कर सकते हैं और सालाना या साल ( yearly ) का भी bill pay कर सकते हैं जितना हमने मोबाइल डाटा इस्तेमाल किया है उतना ही हमें बिल पे करना होगा यह ज्यादातर व्यापारियों के द्वारा इस्तेमाल किया जाता है।

OR

postpaid का अर्थ है कि पहले इस्तेमाल करो और बाद में bill का भुगतान करो. पोस्टपेड का अर्थ prepaid से एकदम उल्टा होता है. postpaid sim card में हमें कंपनी द्वारा दी जा रही सुविधाओं का लाभ पहले उठा सकते हैं और फिर हम monthly या फिर yearly bases पर bill payment कर सकते हैं.

 

प्रीपेड और पोस्टपेड सिम कार्ड में बेहतर ( better) कौन सा है ? – Prepaid and Postpaid difference

अगर हम चाहते हैं कि हम अपने प्लान को हर महीने अलग-अलग प्लान को चुन या चयनित कर सकें तो हमारे लिए प्रीपेड सिम कार्ड अच्छा है खासकर मध्यम वर्ग के लोगों के लिए जो एक बेहतर प्लान में अच्छी सुविधाएं prepaid सिम कार्ड के माध्यम से ले सकते हैं।

वहीं अगर हम पोस्टपेड सिम का कनेक्शन लेते हैं तो हम तनाव मुक्त होते है, जिसका अर्थ है कि हमें पोस्टपेड द्वारा दी गई सेवाओं और सुविधाओं के बारे में चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं है क्योंकि कंपनियां बिल का भुगतान करने के लिए अतिरिक्त या extra समय की पेशकश करती हैं।

Postpaid और Prepaid सिम कार्ड लेने में क्या फायदा है ?

पोस्टपेड सिम कार्ड ज्यादातर संगठन, कंपनियों के द्वारा उपयोग किया जाता है जो एक व्यापारी के रूप में काम करते हैं यह अपने कर्मचारियों को पोस्टपेड सिम कार्ड allot कर देते हैं जिससे वह अपने कर्मचारियों पर नजर रख सकें कि वह किस से बात कर रहे हैं और कंपनी और संगठन के सिगरेट किसी अन्य व्यक्ति को साझा या शेयर तो नहीं कर रहे और यह भी ट्रैक किया जा सकता है कि कर्मचारी कहां- कहां गए थे।

प्रीपेड सिम कार्ड में ट्रैकिंग की सुविधा पोस्टपेड सिम कार्ड से कम है इसमें ज्यादा से ज्यादा आप 10 कॉल डिटेल निकाल सकते हैं वही पोस्टपेड सिम कार्ड ज्यादा कॉल डिटेल और लोकेशन पता करने की सुविधा है।

 

प्रीपेड और पोस्टपेड सिम कार्ड के plan में कौन सस्ता और महंगा है ?

अगर सस्ते और महंगे plan की बात हो रही है तो हमें यह जान लेना चाहिए कि prepaid प्लान फिक्स होता है और यह कितने महीने का है और महीना खत्म हो जाने के बाद में दोबारा रिचार्ज रिचार्ज करना होता है।

पोस्टपेड सिम कार्ड में हमें कोई लिमिट नहीं रहता अगर हमारा डाटा प्लान खत्म हो गया है और उसके बाद भी हम और प्लान का लाभ उठाना चाहते हैं तो  हम इस्तेमाल कर सकते हैं और महीना खत्म हो जाने के बाद हमारे पास हमारा बिल आता है तो जाहिर सी बात है की पोस्टपेड सिम कार्ड महंगा होगा प्रीपेड सिम कार्ड से यही कारण है कि भारत में सबसे ज्यादा सिम कार्ड प्रीपेड सिम कार्ड के ही दिखते हैं क्योंकि यह पोस्टपेड सिम कार्ड से सस्ता होता है।

 

Prepaid और Postpaid सिम कार्ड में हम कैसे रिचार्ज कर सकते हैं ?

जिस तरह जमाना आगे बढ़ रहा है है हर चीज में उसी प्रकार लोग डिजिटली जागरूक हो रहे है हम प्रीपेड सिम कार्ड का रिचार्ज करने के लिए गूगल pay, पेटीएम का इस्तेमाल करके हम अपना रिचार्ज आसानी से कर सकते हैं वह भी घर बैठे हैं हमें हमें हमें दुकान पर जाने की कोई जरूरत नहीं है और प्रीपेड प्लान के लिए हम क्रेडिट कार्ड की हमें जरूरत नहीं पड़ती है।

पोस्टपेड में हमें अपना बिल भरने के लिए हमें credit card की आवश्यकता पड़ती है और दूसरा तरीका है बिल पेमेंट का वह है  google pay, paytm इत्यादि ऑनलाइन मनी ट्रांजैक्शन जितने भी है उनकी सहायता से  हम अपना bill भर सकते है।

Prepaid और Postpaid मे Validity कब तक रहती है :-

प्रीपेड सिम कार्ड में जैसे हमने चर्चा की है कि उसके अंदर बिना कोई प्लान लिए हम इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं और ना ही किसी के पास फोन कॉल कर सकते हैं, हर कंपनी का अलग-अलग data प्लान है 3 महीने का है, 1 साल का इसी के अंदर का प्लान खत्म होता है उसके बाद हमें दोबारा रिचार्ज कराना होता है तभी हम  telecom कंपनी द्वारा दी गई सुविधाओं का उपयोग कर पाएंगे।

वही पोस्टपेड सिम कार्ड के अंदर हमें डाटा प्लान के खत्म हो जाने के बाद हम जो भी सर्विस लेते हैं और जितना सिम कार्ड का इस्तेमाल करते हैं उतना बिल हर महीने आ जाएगा जिसे हमें pay या जमा करना होगा।

प्रीपेड और पोस्टपेड सिम संबंधित पूछे गए सवाल

Prepaid vs postpaid  Bill

अगर प्रीपेड सिम की बात की जाए तो इसमें बिल पेमेंट नहीं करना पड़ता है जितना बैलेंस हमारे सिम कार्ड में बचा होता है उतना ही हम इस्तेमाल कर सकते हैं जबकि पोस्टपेड सिम कार्ड की बात की जाए तो इसमें हमें monthly या yearly बेसिस पर बिल का भुगतान करना पड़ता है।

प्रीपेड और पोस्टपेड में Emergency loan

प्रीपेड सिम का बैलेंस खत्म हो जाने के बाद हम इमरजेंसी के तौर पर 5 से ₹10 का लोन ले सकते हैं जबकि पोस्टपेड सिम कार्ड में बैलेंस खत्म होने का कोई झंझट नहीं रहता है क्योंकि इसमें हम मंथली या ईयरली बेसिस पर भुगतान करना पड़ता है।

 पोस्टपेड और प्रीपेड Payment

प्रीपेड सिम की बात की जाए तो इसमें पेमेंट करने के लिए क्रेडिट कार्ड की जरूरत नहीं पड़ती है वहीं अगर पोस्टपेड की बात की जाए तो इसमें पेमेंट करने के लिए क्रेडिट कार्ड की जरूरत पड़ती है

आज आपने सिखा – Prepaid और Postpaid सिम कार्ड क्या है ?

इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप सभी को प्रीपेड और पोस्टपेड से संबंधित सारी जानकारी जरूर मिल गई होगी अब आप जानना चाहते होंगे कि दोनों में से सबसे अच्छा कौन है तो मैं आपको बता दूं कि अपने अपने क्षेत्र में यह दोनों काफी अच्छी तरीके से काम करते हैं कुछ लोगों को प्रीपेड सिम कार्ड पसंद होता है जबकि व्यापारी या बिजनेस वर्गीय लोगों को पोस्टपेड सिम कार्ड अच्छा लगता है।
ऐसा नहीं है कि सिम पोस्टपेड सिम कार्ड का इस्तेमाल व्यापारी लोग ही करते हैं इसका इस्तेमाल आम लोग भी कर सकते हैं लेकिन इसमें उतना इंटरनेट और कॉल नहीं इस्तेमाल करने के कारण कभी कबार यह आम लोगों के लिए घाटे का सिम कार्ड भी साबित हो जाता है। अगर आप पोस्टपेड सिम कार्ड का इस्तेमाल करते हैं और कॉल या इंटरनेट का इस्तेमाल भी नहीं कर पाते हैं तभी भी आपको मंथली बिल आता रहेगा इसलिए ज्यादातर लोग प्रीपेड सिम कार्ड को ही बेहतर समझते हैं जितनी जरूरत उतना रिचार्ज और उतना ही इंटरनेट और कॉल का इस्तेमाल अपनी जरूरत के हिसाब से करते हैं.

आप को इस आर्टिकल में कुछ भी पसंद आया हो तो अन्य लोगों के साथ साझा या सोशल मीडिया के माध्यम से अन्य लोगों तक पहुंच आइए। प्रीपेड और पोस्टपेड से संबंधित सारी जानकारी आपको मिल गई होगी इसके लिए आपको किसी अन्य साइट पर ना जाना पड़े धन्यवाद |

Leave a Reply